कबाड़ में बिकने लगे पीएम उज्जवला योजना के सिलेंडर, गैस भराने के लिए लोगों के पास नहीं हैं पैसे, देखें वीडियो

दिन प्रति दिन बढ़ रहीं महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है अब हालात ये है कि लोगों को अपना घर खर्च चलाना मुश्किल हो रहा है। सब्जी से लेकर ईंधन तक सबकी कीमत आसमान छु रहीं है। ये महंगाई लोगों को इस कदर परेशान कर रहीं है कि लोगों ने अपने घरों से गैस सिलेंडर ही कबाड़ में बेचना शुरू कर दिया है। बताना लाजमी है कि 1 मई 2016 को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरुआत हुई। और लोगों को इस योजना के तहत सिलेंडर उपलब्ध कराए गए थे।

प्रधानमंत्री #उज्जवला योजना में मिले सिलेंडर भिंड ज़िले में कबाड़ में बिकने लगे हैं, योजना के साथ जो चूल्हा मिला था वो भी भूसे के ढेर के बीच कबाड़ में पड़ा है.योजना के लाभार्थी वापस गोबर के कंडे और लकड़ी जलाकर चूल्हा सुलगा रहे हैं,करें भी तो क्या सिलिंडर के दाम पहुंच से दूर हैं pic.twitter.com/qrdb2PXPAw

— Anurag Dwary (@Anurag_Dwary) October 22, 2021

अब आलम ये है कि उज्जवला के सिलेंडर कबाड़ में बिकने लगे हैं, योजना के साथ जो चूल्हा मिला था वो भी भूसे के ढेर के बीच कबाड़ में पड़ा है। योजना के लाभार्थी वापस गोबर के कंडे और लकड़ी जलाकर चूल्हा सुलगा रहे हैं। करें भी तो क्या। सिलेंडर के दाम 925 से 1050 रुपये के आसपास हैं, जो इनकी पहुंच से दूर हैं। लाभार्थी कह रहे हैं कि सिलेंडर भरवा नहीं पा रहे हैं, 4-4 बच्चे हैं, मजदूरी करते हैं, कहां से भरवाएं सिलेंडर।

भिंड ज़िले में 2 लाख 76 हजार लोगों के पास गैस कनेक्शन है
जिसमें 1 लाख 33 हजार कनेक्शन उज्ज्वला के तहत मिले हैं
प्रशासन का कहना है लगभग 77 लाभार्थियों को वो गैस दे चुके हैं, बाकी के लिये सर्वे जारी है लेकिन वो ये नहीं बताते कि कितने लोग कनेक्शन लौटा चुका है! pic.twitter.com/MsrvdM9dr3

— Anurag Dwary (@Anurag_Dwary) October 22, 2021

वहीं सिलेंडर सप्लाई करने वाले ड्राइवर बताते हैं कि सिलेंडर इतना महंगा हो गया, उस चक्कर में ग्राहक लेने नहीं आ पाते हैं, क्योंकि पैसे की व्यवस्था ही नहीं हो पाती। कबाड़ में सिलेंडर मिलने पर ज़िला आपूर्ति अधिकारी अवधेश पांडे नियमानुसार कार्रवाई की बात कर रहे हैं, हालांकि कनेक्शन वापसी के सवाल पर वो चुप्पी साध लेते हैं, उन्होंने बताया कि ऐसी जानकारी नहीं है कि सिलेंडर कबाड़ में बेचे गये हैं। कंपनियों को निर्देशित कार्रवाई करने के लिये बताएंगे।

सरकार कनेक्शन वापसी का ठोस आंकड़ा नहीं देती। वहीं एजेंसी संचालक कहते हैं कि लगभग 70 फीसद लाभार्थी दोबारा गैस भरवाने नहीं आ रहे हैं। बता दें कि भिंड ज़िले में 2 लाख 76 हजार लोगों के पास गैस कनेक्शन है, जिसमें 1 लाख 33 हजार कनेक्शन उज्ज्वला के तहत मिले हैं। प्रशासन का कहना है लगभग 77% लाभार्थियों को वो गैस दे चुके हैं, बाकी के लिये सर्वे जारी है। लेकिन वो ये नहीं बताते कि कितने लोग कनेक्शन लौटा चुके हैं। दूसरे चरण में लगभग 9 लाख हितग्राहियों को नि:शुल्क कनेक्शन दिये जायेंगे।

देशभर में लगभग 9 करोड़ परिवारों को नि:शुल्क गैस कनेक्शन दिये गये। मध्यप्रदेश में अबतक 74 लाख लोगों को गैस कनेक्शन दिए गए हैं। मकसद था देश के उन सभी परिवारों को सुरक्षित, स्वच्छ रसोई ईंधन आवंटित करना जो आज भी पुराने, असुरक्षित व प्रदूषित ईंधन का प्रयोग खाना बनाने के लिए करते हैं। सरकार APLऔर BPL राशन कार्ड धारक महिलाओं को घरेलू रसोई गैस उपलब्ध करा रही है।

अक्सर देखा गया है कि पहले रिफिल के बाद ये सिलेंडर बेकार ही पड़े रहते हैं। लेकिन भिंड से जो तस्वीरें आई हैं वो योजना की प्रासंगिकता को लेकर गंभीर सवाल उठा रही हैं। ये हालात उस राज्य में हैं जहां प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के दूसरे चरण की शुरुआत मध्यप्रदेश के जबलपुर से गृहमंत्री अमित शाह ने की थी।