एसआरएस के चेयरमैन सहित चार को एक-एक साल की सजा

फरीदाबाद (हि.स.)। रियल एस्टेट, ज्वैलरी, सिनेमा के कारोबार से जुड़े एसआरएस ग्रुप के चेयरमैन डा.अनिल जिदल सहित चार लोग को चेक बाउंस के पांच मुकदमों में प्रथम श्रेणी न्यायाधीश रिचु की अदालत ने गुरुवार को एक-एक साल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही चेक की दोगुनी राशि शिकायतकर्ताओं को भुगतान करने का आदेश दिया है। ये मामले टीडी दिनकर, रमा शर्मा, छाया दिनकर, पूनम अग्रवाल और द्रौपदी ने साल 2018 में दायर किए थे।

उन्होंने दायर मुकदमे में बताया कि एसआरएस के चेयरमैन डा.अनिल जिदल, निदेशक बिशन बंसल, नानक तायल और देवेंद्र अधाना ने उनसे फ्लैट में निवेश कराया था। बाद में फ्लैट नहीं दिए तो उन्होंने अपनी राशि वापस मांगी। आरोपितों ने उन्हें चेक काटकर दे दिए। ये चेक बाउंस हो गए। उनके वकील रामकुमार शर्मा ने बताया कि सभी मामले तभी से अदालत में विचाराधीन थे। अब अदालत ने सजा सुनाई है। इनमें टीडी दिनकर को 7.44 लाख, छाया दिनकर को 7.44 लाख, रमा शर्मा को 10 लाख, पूनम अग्रवाल को 7.50 लाख और द्रौपदी को 6.10 लाख रुपये भुगतान करने होंगे। बता दें कि एसआरएस ग्रुप के चेयरमैन डा.अनिल जिदल सहित अन्य पर निवेश का झांसा देकर लोगों से करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप है। उनके खिलाफ जिले के विभिन्न थानों में करीब 80 मुकदमे दर्ज हैं। सभी आरोपित साल 2017 से जेल में हैं।