हिमाचल की ऊंची चोटियों पर हिमपात, सर्द हुआ मौसम

शिमला। हिमाचल प्रदेश में मौसम के मिजाज बदलने से सर्दी का प्रकोप बढ़ गया है। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के चलते शनिवार रात से राज्य के जनजातीय और अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में रुक-रुक कर बर्फबारी हो रही है जबकि राजधानी शिमला सहित राज्य के कई निचले इलाकों में आसमान बादलों से घिरा है।
 मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान राज्य में उच्च पर्वतीय स्थानों पर बर्फबारी और मध्यवर्ती व मैदानी भागों में बारिश होने की सम्भावना जताई है। निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि 17 नवम्बर से मौसम साफ हो जाएगा।
जानकारी के अनुसार राज्य के लाहौल स्पिति, किन्नौर और चंबा जिला के पांगी तथा भरमौर तथा कुल्लू जिला की पर्वत श्रंखलाओं पर बीती रात से हल्का हिमपात रुक-रुक कर हो रहा है। इस ताजा हिमपात से पूरा प्रदेश ठंड की चपेट में है। राजधानी शिमला में सुबह से ठंडी हवाएं चलती रहीं। 
प्रदेश में सबसे ठंडा स्थान लाहौल-स्पीति का मुख्यालय केलांग रहा जहां बीती रात न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि किन्नौर के कल्पा में न्यूनतम तापमान 3.2, मनाली में 5, भुंतर में 5.5, सोलन में 5.8, सुंदरनगर, पालमपुर व मंडी में 6-6, डल्हौजी में 6.8, ऊना में 7.4, कुफरी में 8.5, धर्मशाला में 8.6, शिमला में 8.9, बिलासपुर में 9, हमीरपुर व चंबा में 9.2 और नाहन में 12.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 इस बीच मौसम के तेवरों से मैदानी क्षेत्रों में लंबे समय से चल रहे ड्राई स्पेल के टूटने की संभावना है। मैदानों व मध्य पर्वतीय भागो में मानसून सीजन के बाद से नाममात्र बारिश हुई है। अक्तूबर माह की बात की जाए तो राज्य में बारिश की एक बूंद तक नहीं बरसी है जो किसानों व बागबानों के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है तथा प्रदेश में खेत-खलिहान सूखे की चपेट में आने शुरू हो गए हैं।